“रक्षाबंधन “भाई बहिन के प्यार, विश्वास, का त्यौहार

rakshabandhan 4955517 m

सुबह  विमला पति के लिए नाश्ता के साथ लंचबॉक्स तैयार कर रहीं थीं साथ ही ख्यालों में खोई हुई थी पता नहीं कि भैया भाभी रक्षाबंधन पर बुलाते हैं या नहीं पहले तो अम्मा थी जो सभी तीज त्यौहार पर बुला लिया करतीं थीं पर उनके गुजर जाने के साथ ऐसा लगता है कि जैसे मायके से रिश्ता हमेशा के लिए ही टूट गया था पर हां कभी कभी भैया का फोन जरूर हाल चाल जानने के लिए आ जाता था परन्तु  भाभीजी तो कभी भी फोन लगाना ही उचित नहीं समझती किसी ने सच ही कहा था कि जब तक माता पिता जीवित रहते हैं तब तक  मायका के दरवाजे खुले रहते हैं पर उनके जाने के बाद मायका नाम मात्र सिर्फ फोन पर हाल चाल जानने तक ही सिमट जाता है यहीं सब कुछ तो हुआ था बिमला के साथ कैसा सुखी परिवार था पापा कि लाडली थी वह और मां कि राज दुलारी बढ़े भाई कि प्यारी सी गुड़िया प्यारी सी बहना और भाभीजी के लिए उसकि सबसे अच्छी सहेली जो कि उससे  सब कुछ अच्छा बुरा भैया कि डांट डपट मां का समझाना गुस्सा होना सब कुछ शेयर कर अपना मन हल्का कर लेती थी हालांकि उसके व्याह को पांच साल हों गये थें पर पिछली सुखद ताज़ी स्मृति याद आते ही लग  रहा था कि जैसे कल कि ही बातें हो व्याह के पहले रक्षाबंधन पर मायके गई थी तब उसकी बहुत ही खातिर दारी हुई थी भाई भाभी ने हाथोंहाथ लिया था राखी बांध कर जब वह भाई कि आरती कर रहीं थीं तब भाई उसे चिढ़ाते हुए पांच रुपए का सिक्का उसकि थाली में रख दिया था और कह रहें थें देख  बहिन तूं तो शादी में अपने साथ कार नगद रूपए,सोना चांदी फर्नीचर, सोफ़ा सेट डबल बैड सब कुछ ले जा चुकि हैं फिर हमने तेरा सुंदर सा कमाऊ राजकुमार के साथ व्याह कर दिया है अब भला तूं ही बता बिमला अब तेरा हक सिर्फ पांच रुपए का ही …… हां हां रहने दो अपने पांच रूपए यह भी रख लिजिए समझें मुझे नहीं चाहिए भाभी भाभी …. 

जरा समझाइए अपने कंजूस मक्खी चूस पति को वह चिढ़ते हुए बोली थी ।


अम्मा जी पास ही बैठी बैठी भाई बहिन कि लड़ाई नोक झोंक देख कर खुश हो रही थी तभी भाभी आई थी उनके हाथ में कुछ पैकेट थें उन्होंने कहा था तेरे भैया तो सचमुच कंजूस है पर तेरी भाभी कंजूस नहीं उन्होंने पैकेट खोल कर दिखाएं थें यह तेरे लिए कांजीवरम साड़ी यह बनारसी  और यह ननदोई जी के लिए मखमली कुर्ता पायजामा  और यह रहा तेरा आइफोन अब खुश हैं न बिमला इतना सब उपहार देखकर खुशी से फूली न समा रहीं थीं फिर भी उसने भाई साहब को चिढ़ते हुए कहा था एक यह है कंजूस मक्खी चूस और एक मेरी भाभी देखो देखो कितना कुछ दिया है लाखों में एक हैं मेरी भाभीजी ….

तभी भैया ने जेब में हाथ डाला था उसमें से सोने कि चैन जो एक तोला से ऊपर होंगी हवा में लहराते हुए कहां था हां भाई हां तेरी भाभी तो धन्ना सेठ हैं और में रहा कंजूस अच्छा यह चैन अब तो ….. उनकी बात खत्म भी नहीं हों पाई थी तभी उसने भाई साहब के हाथ से चैन झपट ली थी उसके ऐसा करने से सब हंस हंस कर लोटपोट हो गये थें अम्मा जी हंसते हुए बोली थी भगवान मेरे बच्चे हमेशा ऐसे ही खुश रहें भगवान् आप को तो पता ही है कि इनके पापा बहुत पहले ही हम सब को छोड़कर चले गए थे तब मैंने कड़ी मेहनत कर सिलाई कढ़ाई सेन्टर खोल कर इन्हें पढ़ाया लिखाया और इनकी शादी व्याह के लिए थोड़े थोड़े पैसा जमा करती रही हे भगवान् मेरे परिवार पर ऐसी ही कृपा दृष्टि बनाएं रखना।

तभी भैया ने कहा मेरी बहिना तेरी शादी के बाद मैंने अंतरराष्ट्रीय कंपनी से आइसक्रीम कि डीलरशिप ली थी उसमें अच्छा खासा मुनाफा कमा रहा हूं तेरी शादी पर अम्मा जी के पास जो भी पैसा था सब खर्च हो गया था धंधा के लिए बैंक से ऋण लिया था खैर समय से बैंक कि ई एम् आई जमा हो रहीं हैं और कुछ बचत भी हो रही है वह ख्यालों में खोई हुई थी तभी पतिदेव अविनाश ने यह कहकर बिमला जल्दी से नाश्ता लेकर आइए देखो लेट हों रहा हूं और हां लंचबॉक्स तैयार कर…..

अविनाश दफ्तर जा चुके थे बिमला बासिंग मशीन में कपड़े डालते हुए फिर से ख्यालों में खोई हुई थी अम्मा जी कोरोनावायरस कि चपेट में आ कर स्वर्ग सिधार गई थी उनके क़िया कर्म तेरहवीं में पहुंच गई थी वह ….. उनके एकाएक जानें पर भाईसाहब टूट गये थें  उन्होंने कहा था कि देख बिमला बूढ़ा बरगद का अंतिम पेड़ जिसकी छांव में हमे शीतलता मिलती थीं जो हमें छोटे मोंटे लूं के थपेड़ो से सुरक्षित रखता था जो हमें …. ऐसा कहते हुए फफक फफक कर रो पड़े थे भाई साहब  ।

तीन साल हो गए होंगे कभी कभी तो भाईसाहब भाभी का फोन आ जाता था परन्तु अब एकाएक उसने दूसरे पहलू पर विचार किया था कहीं भाईसाहब का धंधा तो चौपट न हों गया हों कहीं कुछ  मतलब ज्यादा पैसा तो … अब उसे चिंता होने लगी थी तभी तो उसने मोबाइल फोन पर भाई साहब का नम्बर डायल किया था जो बंद आ रहा था उसने तुरंत पति को फोन किया था व कहां था सुनिए आप दफ्तर से एक हफ्ते कि छुट्टी ले लिजिए और  दो। टिकट इन्दौर प्लेन कि बुक करा दिजिएगा हम दोनों परसों इन्दौर जा रहे हैं वैसे भी रक्षाबंधन के तीन दिन ही शेष रह गए हैं इस बार का त्यौहार हम भाई साहब भाभी के साथ मनाएंगे ।

उसके एकाएक पति के साथ मायके पहुंचने पर भाई साहब आश्रय चकित रह गए थे खुशी से उनके चेहरे पर अश्रु धारा वह निकलीं थी भाभी किचन में थी वह भी डाइंग रूम में आ कर उससे लिपट गई थी पर यह क्या भाभी कि देह पर पुरानी साड़ी थी वह पहले से कमजोर थी साथ पेट से थी सातवां महिना चल रहा था यह उनका पहला बच्चा पैदा होगा बिमला ने भाभी से कहा कि भाभी आप कि साड़ी फिर कमजोरी यह सब कुछ समझ में नहीं??  पहले तूं हाथ मुंह धोकर आ तब तक मैं चाय नाश्ता तैयार कर देती हूं फिर आराम से बैठ कर ढेर सारी बातें करेंगे ।

जैसा कि भाभी ने बताया था कि आइसक्रीम का धंधा कोरोनावायरस काल में पूरा डूब गया था चूंकि भाई साहब के पास डीलरशिप थी उन्होंने माल कि सप्लाई छोटे छोटे दुकानदारों को कि थी  जिन्होंने पैसा वापस नहीं किया था और न ही अब मिलने कि उम्मीद नहीं थी कुल मिलाकर करोड़ रुपए का नुक़सान हुआ था हालात ऐसे हों गये थें कि घर में राशन पानी , मोबाइल बैलेंस डलवाने के लिए पैसा नहीं था फिर भाभी का पहला बच्चा होने वाला था चूंकि वह कमजोर हो गई थी उनका भी इलाज चल रहा था ।

अविनाश भाई साहब के पास बैठे हुए ठहाके पर ठहाके लगा रहें थें ऐक ही दिन बाद भैया भाभी के चेहरे से चिंता तनाव गायब हो गया था तभी तो भाई साहब अविनाश को मजेदार लतीफे सुनाते फिर खुद हंसते और सभी को हंसाते हंसने हंसाने कि कला हर किसी के पास नहीं होती यह कला दुर्लभ है आज काल के भौतिक बादी अर्थ युग में हर आदमी परेशान हैं वह अंदर से दुखी रहता है  कांच के सीसे जैसे टुकड़े से टूटा हुआ है पर बाहर वह अपने आप को खुशहाल हंसते हुए दिखलाता है यह उसका दुसरा छद्म रूप है चूंकि इस युग में संयुक्त परिवार न के बराबर है ऐसे में इंसान किस के कांधे पर सर रखकर अपना दुःख परेशानी सांझा करें ?  इसी का परिणाम है कि ब्लड प्रेशर,शुगर हार्ट जैसी बीमारी मानव देह पर आसानी से कब्जा कर रहीं हैं लोग लम्बी उम्र नहीं जी पाते हैं  काश अभी भी हमारे पास समय है कि हम अपनी स्वार्थ भावना से निकल कर परिवार के साथ जुड़े रहे तब हम हर प्रकार से तनाव मुक्त जीवन व्यतीत करेंगे हमें कभी भी किसी चिकित्सक के पास जाने कि जरूरत नहीं होगी ।

खैर भाईसाहब अविनाश गप्पों में खोए हुए थे और हम महिलाएं किचन में छप्पन भोजन तैयार कर रहीं थीं जैसे कि खीर पूड़ी मिठाइयां आदि आदि कारण आज रक्षाबंधन भाई बहिन के अटूट विश्वास प्यार का त्यौहार था  कुछ देर बाद बिमला थाली सजा कर भाईसाहब के पास राखी बांधने जा पहुंची थी राखी धागा बांध कर उसने भाई साहब को श्री फल रूमाल कुछ कपड़े भाभी के लिए अच्छी अच्छी साड़ी या (हालांकि बिमला ने पति के साथ यह सब एक दिन पहले ही बाजार से खरीद लिया था ) उपहार में दी थी परन्तु भाई साहब आज अपने आप को शर्मिन्दा महसूस कर रहे थे उन्होंने जेब में हाथ डाला था फिर पांच का सिक्का थाली में रख दिया था देख मेरी प्यारी बहना तेरे कंजूस मक्खी चूस भाई के पास यह पांच रूपए ही है ऐसा कहते हुए उनकि आंख डबडबा आईं थीं बिमला ने कहा था भाई साहब आप का धंधा डुब गया आप एक एक पैसा के लिए परेशान थें आप ने एक बार हमें अपनी परेशानी बताना उचित नहीं समझा क्या हमारा प्यार एक दिखावा था क्या हमारे रिश्ते स्वार्थी थें फिर भाभी से आप तों हमारी सच्ची सहेली थी हमें तो फोन पर कुछ कहती पर आपने भी उचित नहीं समझा  वह तो मैं खुद आगे बढ़कर आप के पास आ गई तब सब कुछ …. ऐसा कहते हुए बिमला जोर जोर से रोने लगी थी इसी बीच अविनाश ने भाईसाहब को बीस लाख रुपए कि चैक थमा दी थी जो भाई साहब नहीं ले रहे थें तब अविनाश ने गम्भीर स्वर में कहा था भाई साहब में दहेज़ लेना और देना दोनों का धुर विरोधी हूं आप लोगों ने हमारी शादी पर पानी जैसा पैसा बहाया था जो कि कहीं से भी कहीं उचित नहीं था अरे मुझे तो आपने अपनी बहिन मुझे जीवनसंगिनी के रूप मे दी यही मेरे लिए सब से बड़ा दहेज़ था खैर आप इन रूपयो से  नया धंधा डालिए  सब कुछ अच्छा हो जाएगा ।

भाई साहब आप अपने आप को अकेला नहीं समझना हम सब हैं न  अब माहौल खुशनुमा था सच्चे अर्थों में यही रक्षाबंधन का त्यौहार का महत्व हैं ।।

आप को यह कहानी कैसी लगी कमेंट कर बताइएगा आपका दोस्त   

 

 

Advertisementsn

1 thought on ““रक्षाबंधन “भाई बहिन के प्यार, विश्वास, का त्यौहार”

  1. चूंकि यह धन दौलत का युग है एसे में एक मां कि कोख से पैदा भाई बहिन भी धन दौलत के कारण स्वार्थी हो गये हैं परन्तु ऐसे ही युग में एक बहिन हैं जिसने स्वार्थ भावना से निकल कर रक्षाबंधन राखी के धागे को सही अर्थों में भाई बहिन के प्यार विश्वास को चरितार्थ किया ।

Comments are closed.

Share via
Copy link