“ढाई बीघा ज़मीन”बुड्ढी मां कि सेवा दो बीघा जमीन कि लालच में कि गयी ।

farmer bull india madhya pradesh 2017721 15316 21 07 2017

  दो भाई थे एक का नाम मनी राम था दूसरे आ नाम गुड़ी राम था जब तक माता पिता जिंदा थे मिलकर रहते थे दोनों का व्याह हो गया था खेती बाड़ी अच्छी थी दो दो ट्रेक्टर , मोटरसाइकिल,कार  थी अच्छा पक्का बड़ा तीन मंजिला मकान था कुल मिलाकर माता पिता इश्वर के आर्शीवाद से हर प्रकार से सुखी थे धन धान्य रूपए पैसा कि कोई भी कमी नहीं थी जब तक माता पिता जीवित थे सब कुछ अच्छा चल रहा था  फिर पहले पिता जी स्वर्ग सिधार गए थे उनके गुजर जाने के बाद उन्होंने संपत्ति का बंटवारा करने का निश्चय किया था कुछ नजदीकी रिश्तेदार के अलावा गांव के पंच परमेश्वर इकट्ठे हुए थे सभी संपत्ति आधी आधी बांटी गई थी जैसे कि घर जमीन टैक्टर गाय भैंस ज़ेवर रूपए पैसा पर अब बात यहां अटक गई थी कि अम्मा कि सेवा कोन करेगा बड़ी बहू सेवा करने को राजी नहीं थी फिर छोटी बहू से पूछा गया था तब वह भी न नखरे करने लगी थी पंचों ने विचार कर कहा था कि जो भी दोनों भाइयों में से अम्मा कि सेवा करेगा उसे ढाई बीघा जमीन उनके मरने पर उसी को मिलेंगी चूंकि अम्मा के नाम पर गांव के नजदीक ही जो कुआं था उनके नाम पर ही था अब ढाई बीघा जमीन कि लालच में छोटी बहू सास कि सेवा करने को राजी हो गई थी दोनो भाई अब पड़ोसी हों गये थें उनके बीच का प्यार आपसी सोहार्द सम्मान खत्म हो गया था बंटवारे के बाद घर के दरवाजे अलग हों गये थें  बीच में एक दीवार खड़ी हो गई थी जैसे कि दो राष्ट्रों कि सीमा हों चूंकि दोनों भाइयों के दो दो बच्चे थें जो अभी किशोर अवस्था में प्रवेश कर रहे थे उन्होंने भी दूरी बना ली थी ।

अम्मा के अब मजे थे सारे दिन खटिया पर बैठ कर बहू बेटा नाती नातिन (चूंकि दोनों भाइयों के दो दो बच्चे थें ) को आदेश देती थी खटिया पर ही भोजन करतीं थीं फिर बच्चे स्कूल गए कि नहीं क्यों नहीं गए खेतों में फसल में खाद्य पानी दिया कि नहीं समय पर ट्रेक्टर ट्राली कि सर्विसिंग कि या नहीं नौकर अच्छा काम करते हैं या नहीं उन्हें टाइम पर पैसे दिए फिर क्यों नहीं दिए गाय भैंस को हरा चारा सानी पानी दी या नहीं आदि चूंकि अम्मा कुशल गृहिणी थी सारे जीवन का उन्हें गृहस्थी चलाने का अनुभव था पैसे को दांतों से पकड़ कर रखती थी छोटे बेटे ने उनके इस अनुभव का भरपूर इस्तेमाल किया था तभी तो बह कुछ ही सालों में आर्थिक रूप से अधिक सम्पन्न हो गया था ।

मनीराम बड़ा बेटा था  स्वभाव से कंजूस व्यक्ति था साथ ही जी तोड़ मेहनत कश भी था  पर उसकी पत्नी  खर्च करने वाली महिला थी वह फिजूल खर्च करने की आदी थी जैसे कि हर माह महंगी महंगी साड़ियां सौंदर्य सामाग्री लेंना जेवर खरीदना बच्चों को भी जरूरत से ज्यादा पैसा देना बच्चे भी अच्छे स्कूल में पड़ रहें थें ऐसे में उसके उपर भार बढ़ गया था देखते ही देखते वह आर्थिक रूप से कमजोर हो गया था व कुछ कर्ज भी हो गया था इसी चिंता में वह शारीरिक रूप से कमजोर हो गया था अम्मा खटिया पर बैठ कर सब कुछ देखती थी सब समझ रहीं थीं उसकी दुर्दशा पर मन ही मन में चिंता कर रही थी पर कहीं न कहीं मन में संतोष भी था कि देखो जिस जननी ने जन्म दिया था उसी कि सेबा के लिए मना कर दिया मुझे तो दो रोटी ही खानी थी वह भी बेटा बहू को भारी पड़ रही थी अब समझ में आया होगा कि बूढ़े मां बाप बट वृक्ष जैसे होते हैं जिनके छांव तले शीतलता ही मिलती है अब बच्चू भुगत रहे हैं भुगतने दिजिए पर बड़ी बहू महारानी को सारे दिन लिपस्टिक पाउडर पोतने से ही फुर्सत नहीं है बाजार हाट में तो पैसे पानी जैसे बहाती है न जाने क्या होगा इनका हालांकि अम्मा के पास कुछ सोना चांदी भी था  बैंक में पैसा भी जमा था जिसकी पास बुक उन्होंने अलमारी में छुपा कर रखीं हुई थी अगर अम्मा चाहती तब बड़ा बेटा इस सकंट से निकल जाता ।

छोटा बेटा बढ़े भाई साहब को यूं परेशान देखकर दुखी होता था उसने अपनी पत्नी से कुछ मदद करने का कहां था पर पत्नी के सामने एक नहीं चली थी वह एक पैसा भी देने वाली नहीं थी दूसरी ओर अम्मा को भी पति पत्नी कि बात चीत का पता चल गया था तभी तो अम्मा आग बबूला हो कर खटिया पर बैठ कर चिल्ला उठी थी देख गुड़ी राम मेरे जीते जी उस जोरू के गुलाम को एक धेला भी नहीं दे देना कहें देती हूं उसे मां कि सेबा बोझ लग रही थी मुझे क्या दो रोटी ही तो खाना थी फिर साल में दो धोती ही तो चाहिए थी औरत का गुलाम वह भी नहीं दे सका अब भुगतने दो ।

एक दिन दोपहर का समय था अम्मा खाट पर आराम कर रहीं थीं तभी बढ़ी बहु पांव पटकते हुए आई थी आते ही उसने कहा था अम्माजी बहुत हो गया अब आप हमारे साथ रहेंगी समझी 

अम्मा:-  हाथ नचाकर वाह वाह वाह क्या बात है आज अम्मा कि याद आ गई है उस दिन तो पंचायत में में ंंमें नहीं रख सकतीं 

बढ़  वहू :- हां हां कहां था पर हम नहीं जानते थें कि तुम जमीन के साथ जेवर सोना चांदी रूपए दवा कर बैठी थी 

सोर सुनकर छोटी बहू भी जो अंदर आटा गूंथ रही थी वह आटा से लिपटे हुए हाथों से आ गई थी उसने कहां था कि दीदी अम्मा कहीं भी नहीं जाने वाली  ?

बढ़ी वहू:- क्यों अब समझी दो बीघा ज़मीन तुम ही रखोगी क्या जमीन का बंटवारा होगा साथ ही अम्मा का भी अम्मा एक साल हमारे पास रहेंगी और एक साल तुम्हारे पास दो बीघा ज़मीन पर एक एक साल खेती होंगी 

थोड़ी देर में ही घर नहीं वह जंग का अखाड़ा बन गया था दोनों ही और से शस्त्र कटु शब्दों द्वारा दागे जा रहे थे एक दुसरे के पति मारे जा रहे थे पूत मारे जा रहे थे मतलब एसी कोई भी गाली नहीं थी जिसका इस्तेमाल न किया था अम्मा भी जोर जोर से मोर्चा संभाल रहीं थीं तभी तो वह छिनाल मेरे बेटे को बर्बाद कर दिया आदि एक तरफ दो महिलाएं थी दूसरी ओर अकेली महिला ज्यादा बहस देख कर अम्मा ने अपनी छड़ी उठा कर जमीन पर तीन चार बार पटकी थी शायद वे चेतावनी दे रहीं थीं तभी तो अम्मा के रौद्र रूप को देखकर वह पांव पटकते हुए वापस चलीं गईं थीं ।

समय का पहिया घूमता रहा था अम्मा भी स्वर्ग सिधार गई थी उधर बड़ा भाई कर्ज में डूबा हुआ था बच्चों कि पढ़ाई छूट गई थी  और वह बीमार भी रहने लगा था खेती बाड़ी करने वाला वह ही था तभी तो खेती चौपट हो गई थी जिन खेतों में सरसों गेहूं कि फसल लहलहा रही थी उसमें आवारा जानवर घूम रहे थे वह खेत बंजर हो गये थें छोटा बेटा भाई साहब कि हालात पर चिंता करता कुछ मदद भी करना चाहता था पर उसकी घरवाली  एक कोढ़ी भी देने को तैयार नहीं थी अम्मा कि दो बीघा ज़मीन अभी भी उसके पास ही थीं बैंक कि पासबुक भी मिल गई थी जिसमें लाखों रूपए जमा थें कभी कभी वह घरवाली से कहता था इन रुपयों में भैया का भी अधिकार है हमें अकेले हजम नहीं करना चाहिए ऊपर बैठा भगवान सब देख रहा है ऐसा करते हैं उन्हें एक बीघा ज़मीन और यह आधा पैसा उन्हें दे देते हैं इस पर घरवाली तुनक कर कहती चुप रहो हमें कुछ भी नहीं देना  ।

वर्षांत के दिन थे गुणी राम खेत से घर आ रहा था उसने देखा उसकी घरवाली बड़े भैया के घर से जल्दी जल्दी निकल रही थी उसे देखकर बोली थी में आपको ही फोन लगाने वाली थी आज भाई साहब कि तबियत ज्यादा बिगड़ी हुई हैं  दीदी बच्चों का भी रो रो कर बुरा हाल है उनके आंसुओं को देखा नहीं जाता भला उनका हमारे अलावा कौन है  मैंने एम्बूलैंस को फोन किया था एम्बूलैंस आतीं ही होंगी ऐसा कहते हुए वह अंदर अलमारी के पास पहुंच गयी थीं पत्नी के हृदय परिवर्तन पर गुड़ी राम चकित था किसी विद्वान ने कहा था कि नारी दिल से नर्म दयालु होती है आज यह बात सच साबित हुई थी फिर उसने बैंक कि पासबुक नगद रूपए ले लिए थे  एम्बूलैंस आ गई थी जिसमें सारा परिवार मतलब देवरानी जेठानी छोटा भाई समां गया था देवरानी जेठानी से कह रहीं थीं दीदी चिंता मत करो भाई साहब अच्छे हों जाएंगे उनके इलाज में लाखों रूपए भी खर्च करने होंगे हम करेंगे भला यह धन कब काम में आयेगा पति कि और देखकर हैं न  हां हां क्यों नहीं भाई साहब आप को जल्दी अच्छे हों जाएंगे फिर भाभी सच कहता हूं अम्मा के पास बैंक में रूपया जमा था जिसमे आप का भी अधिकार था हम उन्हें देने ही वालें थें पर डरते थे कि कहीं आप फिजूल खर्च न कर दे देखो यह पैसा अब काम में आयेगा 

बीमारी ठीक हो गई थी दो बीघा ज़मीन का भी बंटवारा हों गया था अब परिवार में पहले जैसा स्नेह प्यार हों गया था ।

Advertisementsn

1 thought on ““ढाई बीघा ज़मीन”बुड्ढी मां कि सेवा दो बीघा जमीन कि लालच में कि गयी ।”

  1. माता पिता को आज बोझ समझा जा रहा है अगर संपत्ति हैं तब उनका बुढ़ापा अच्छा लगता है वरना वे दर दर कि ठोकर खाते हुए जीवन के अंतिम दिन व्यतीत करते हैं दो बीघा ज़मीन एसी ही सोच पर लिखी गई है

Comments are closed.

Share via
Copy link