“सारे जहां कि खुशियां”यह कहानी बच्चे कि साइकिल पर लिखी गई है जो कि उसके दिहाड़ी मजदूर पिता पूरी नहीं कर पाते हैं

मग्न लाल शाम को झुग्गी आया था टिफिन का थैला के साथ एक कपड़े कि थैली में कुछ सब्जियां थी उसने उसे घरवाली को पकड़ा दी थी फिर वह हाथ मुंह धोने लगा था घरवाली ने सब्जियां निकाल कर देखी थी जिसमें आलू और हरी मिर्च धनिया ही थी उसने मग्न लाल से कहां था … Read more

“सारे जहां कि खुशियां”यह कहानी बच्चे कि साइकिल पर लिखी गई है जो कि उसके दिहाड़ी मजदूर पिता पूरी नहीं कर पाते हैं

मग्न लाल शाम को झुग्गी आया था टिफिन का थैला के साथ एक कपड़े कि थैली में कुछ सब्जियां थी उसने उसे घरवाली को पकड़ा दी थी फिर वह हाथ मुंह धोने लगा था घरवाली ने सब्जियां निकाल कर देखी थी जिसमें आलू और हरी मिर्च धनिया ही थी उसने मग्न लाल से कहां था … Read more